हिन्दी दिवस

हिंदी है हम वतन है हिंदुस्तान हमारा || गर्व से कहें ‘हिंदी हैं हम’

सबसे पहले आप सभी को हिंदी दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं। हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। 1953 से पूरे भारत में 14 सितम्बर को प्रतिवर्ष हिन्दी-दिवस के रूप में मनाया जाता है। 14 सितम्बर 1949 को हिन्दी के पुरोधा व्यौहार राजेन्द्र सिंहा का जन्मदिन होता है जिन्होंने स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद हिन्दी को राष्ट्रभाषा के रूप में स्थापित करवाने के लिए काका कालेलकर, मैथिलीशरण गुप्त, हजारीप्रसाद द्विवेदी, सेठ गोविन्ददास आदि साहित्यकारों को साथ लेकर व्यौहार राजेन्द्र सिंह ने अथक प्रयास किए।

बोलने वालों की संख्या के अनुसार अंग्रेजी और चीनी भाषा के बाद पूरे दुनिया में तीसरी सबसे बड़ी भाषा है। लेकिन उसे अच्छी तरह से समझने, पढ़ने और लिखने वालों में यह संख्या बहुत ही कम है। यह और भी कम होती जा रही। इसके साथ ही हिन्दी भाषा पर अंग्रेजी के शब्दों का भी बहुत अधिक प्रभाव हुआ है और कई शब्द प्रचलन से हट गए और अंग्रेज़ी के शब्द ने उसकी जगह ले ली है। जिससे भविष्य में भाषा के विलुप्त होने की भी संभावना अधिक बढ़ गई है।

हिन्दी दिवस के दौरान कई कार्यक्रम होते हैं। इस दिन छात्र-छात्राओं को हिन्दी के प्रति सम्मान और दैनिक व्यवहार में हिन्दी के उपयोग करने आदि की शिक्षा दी जाती है। हिन्दी में निबंध लेखन प्रतियोगिता के द्वारा कई जगह पर हिन्दी भाषा के विकास और विस्तार हेतु कई सुझाव भी प्राप्त किए जाते हैं।

वर्तमान समय के विख्यात लेखक अपने लेखों द्वारा हिन्दी की पहचान और हिंदी भाषा को बचाये हुए है। हिंदी एक आसान बोली और समझी जाने वाली भाषा है कोई भी बक्ति इसे बड़े ही आसानी से लिख और बोल सकता है। हिंदी भाषा बहोत ही सुन्दर और मधुर भाषा है।

हिंदी भाषा भारत की पहचान है और अब देश विदेशों में हिंदी भाषा को पहचान मिल रही है। पश्चिमी देशों में भी हिंदी भाषा को जगह मिल रही है वह के लोगों में भारत के रीति रिवाज़ अपनाया जा रहा है।

One thought on “हिन्दी दिवस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *