सरकारी नौकरी के फायदे और लाभ - अच्छी कमाई

December 30, 2020
benefits of government job

सरकारी कर्मचारी किसी राजा से कम नहीं है भारत मे

सरकारी नौकरी पाने के बहुत सारे तरीके है भारत मे। जैसे कुछ लोग परीक्षा पास करके सरकारी नौकरी प्राप्त करते है, तो वही कुछ लोग आरक्षण के दम पर सरकारी नौकरी पा लेते है, तो कुछ लोग जातिगत प्रणाम पत्र की सहायता से और कुछ अपने पहचान से या सिफारिश से सरकारी नौकरी हासिल कर लेते है, और कुछ लोग मंत्री के रिस्तेदार या मंत्री के घर के सदस्य होने के नाते सरकारी नौकरी प्राप्त कर लेते है, और कुछ लोग पैसे के दम पर सरकारी नौकरी प्राप्त कर लेते है। आम आदमी बस यहा वहा धक्के खाता रहता है। सरकारी नौकरी पाने के लिए अपने जीवन के कई वर्ष लगा देता है। फिर भी सरकारी नौकरी नहीं मिलती। यदि कभी सरकारी नौकरी मिलती भी है तो उसके लिए रिश्वत भी देनी पड़ती है।

लेकिन जब सरकारी नौकरी मिल जाती है तब उनके तेवर अलग लगते है। सरकारी कर्मचारी अपने आप को इस ब्रम्हांड का मालिक समझने लगते है। उनको लगता है की सबकुछ उनकी ही कृपा से चल रहा है। सरकारी कर्मचारी आम नागरिक से ऐसा व्यवहार करते है जैसे की वे उनके गुलाम हो। सरकारी कर्मचारी आम नागरिक से सीधे मुँह बात तक नहीं करते है। इसमे भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के कर्मचारी प्रथम श्रेणी मे आते है जो सबसे दुस्ट प्रवृति के होते है इनको तो लगता है की तीनो लोक के स्वामी यही है, इनकी ही कृपा से सब जी खा रहे है और ये दुनिया चल रही है, ये ना होते तो कुछ भी न होता ये दुनिया भी नहीं होती।

मेरा भी खाता भारतीय स्टेट बैंक मे है इसलिए मेरा आना जाना भारतीय स्टेट बैंक मे लगा रहता है। इसलिए मैं स्टेट बैंक के कर्मचारीयों के बर्ताव से अवगत हूँ, इसलिए जब बहुत जरुरी होता है तभी स्टेट बैंक मे जाता हूँ अन्यथा नहीं जाता हूँ। ऐसा भी नहीं है की सिर्फ एक ही ब्रांच के कर्मचारीयों का बर्ताव ऐसा हो बल्कि भारत के किसी भी राज्य के स्टेट बैंक मे जाओ या किसी अन्य सरकारी कार्यालय मे जाओ वो कभी भी अच्छा बर्ताव नहीं करते, कोई भी जानकारी उचित ढंग से नहीं बताते है।

मेरे वैसे तो सरकारी कार्यालय के कई अनुभव है जहाँ मैंने सरकारी कर्मचारीयों के दुर्व्यवहार का सामना किया है। जिसमे से मैं एक बार का अनुभव साझा करने जा रहा हूँ, उस समय हुआ यू था की मेरी सैलरी का चेक मुझे मिला था। उस चेक को जमा करने के लिए मैं अपने नजदीक के भारतीय स्टेट बैंक मे गया था उस समय दोपहर के 1 बजे थे, मैं चेक जमा करने के लिए लाइन मे खड़ा था और स्टेट बैंक वालो का लंच टाइम होने वाला था। लाइन मे मेरे आगे पांच लोग थे मैं अंत मे था मेरे पीछे कोई भी नहीं था। स्टेट बैंक मे उस समय जिस लाइन मे मैं खड़ा था उस काउंटर पर एक महिला कर्मचारी थीं। उसकी उम्र पचास के आसपास होगी, वह अपना काम बहुत धीरे धीरे कर रही थीं, उसने आगे के दो लोगों का काम किया और हम तीन लोग लाइन मे थे, जिनका काम बाकि था और इतने मे स्टेट बैंक वालो का लंच टाइम हो गया। वो महिला कर्मचारी उठी और लंच(Lunch) के लिए जाने लगी तभी लाइन मे सबसे आगे खड़े व्यक्ति ने कहा मैडम मेरा एक मिनट का ही काम है कर दीजिये। तब उस महिला कर्मचारी ने जोर से चिल्लाते हुये उस आदमी को कहा, मर जाओ और जाने लगी तब उस व्यक्ति ने अपना मोबाइल(Mobile) निकला और वीडियो चालू किया और बोला अब फिर से बोलो जो कहा, तब वह महिला कर्मचारी चुपचाप चली गई। सब देखते रह गये उसके इस बर्ताव को। इन सरकारी कर्मचारीयों को आम आदमी की जरा भी परवाह नहीं होती है। हमेशा घमंड मे चूर रहते है। जो मन मे आया वो बोल देते है।

सरकारी नौकरी मे प्रमोशन पाने के अपने अलग ही तरीके होते है। सरकार अपनी तरफ से सरकारी कर्मचारीयों के लिए वेतन आयोग लाते रहती है। जिसमे सरकारी कर्मचारीयों की तनख्वाह सीधा दो गुना या तीन गुना बढ़ जाती है। यह वेतन आयोग हर चार पांच साल मे वेतन(Salary) बढ़ाने मे लगा रहता है। फिर चाहे वह कर्मचारी काम करें या न करें सबकी तनख्वाह बढ़ जाती है इसमें काबिलियत की कोई जरुरत नहीं होती है। और यह भी कभी नहीं देखते की एक सरकारी कर्मचारी अपने एक साल के वित्तीय वर्ष मे सरकार को या जिसमे किसी भी सरकारी शाखा मे है उसको कितना लाभ दिलाया। उनको काम से कोई मतलब नहीं होता बस अपने और पैसे से ही मतलब होता है। सरकारी नौकरी मे एक चीज यह भी है की यदि कोई सरकारी कर्मचारी अपना काम ठीक से नहीं कर रहा है या काम मे लापरवाही कर रहा या कुछ भी गलत कर रहा है तब भी उसे नौकरी से नहीं निकला जा सकता है।

इसलिये भारत मे लगभग हर लड़की का पिता अपनी बेटी की शादी के लिए सरकारी नौकरी वाला लड़का ढूंढता है। फिर चाहे जितना भी दहेज़ देना पड़े उसके लिए भी तैयार हो जाते है। इसीलिए भारत मे एक जरुरी चीज यही है की बस किसी तरह सरकारी नौकरी प्राप्त करें इसके बाद आप भारत मे अपने आप को किसी राजा के कम नहीं महसूस करेंगे। और कई लोग अपने जीवन के कई साल और लाखो रूपये सरकारी नौकरी के चक्कर मे बर्बाद भी कर देते है। इस तरह से सरकारी कर्मचारीयों मे सबकी तनख्वाह बढ़ जाती है जो काम करें उसका भी और जो ना करें उसका भी और इन सबका बोझ जनता के ऊपर बढ़ता चला जाता है क्योंकि इन सबका सारा खर्चा तनख्वाह जनता के टैक्स के पैसे से ही दिया जाता है। तो इसका सीधा असर आम जनता पर पड़ता है। इन सब वेतन आयोग के द्वारा बढ़ाये गये वेतन से भी संतुष्ट नहीं होते है तो कभी कभी अपने आप हड़ताल कर देते अपना वेतन बढ़वाने के लिए और ये हड़ताल(strike) कई दिनों तक चलती रहती है।

इससे आम जनता को कितनी परेशानी होती है इससे इनको कोई फर्क नहीं पड़ता है, इनको तो बस अपनी पड़ी होती है। दोनों तरफ से नुकसान आम जनता का ही होता है इनका वेतन बढेगा तब भी जनता के ऊपर बोझ बढेगा और ये हड़ताल पर रहेंगे तब जनता का ही काम रुकेगा। सरकारी कर्मचारी एक पल के लिए ये भी नहीं सोचते की जो आम जनता कम वेतन पर काम करके अपना घर चला रहे है उनका गुजारा कैसे होगा, सरकारी लोगों का वेतन भी बहुत अधिक होता है, उनके लिए पीएफ(PF) भी जमा होता है और रिटायर्ड होने पर पेंशन(pension) भी मिलता है और कई प्रकार के भत्ते, छुट्टी सब मिलती है। सचमुच भारत मे सरकारी नौकरी किसी राजा की राजगद्दी से से कम नहीं है। सरकारी कर्मचारी किसी राजा से कम नहीं है भारत मे।

government job funny couple

सरकारी नौकरी मिलने का एक फायदा यह भी है की, इनको शादी करने के लिए एक से एक खूबसूरत लड़कियां भी मिल जाती है, और वो भी लाखो रूपये दहेज़ के साथ और महँगी गाड़ी भी मिल जाती है शादी मे। फिर वो सरकारी नौकरी करने वाला व्यक्ति कितना भद्दा, कितना भी काला और कैसा भी दिखता हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लड़की को वो पसंद हो न हो कोई फर्क नहीं पड़ता उसकी शादी उससे करा दी जाती है।

- RAKESH PAL
Follow on -